पुराने जमाने मे किसान इस यंत्र से अपने खेतों की सिंचाई करता था !! रहट का कुआँ !

सभी किसान भाइयों को नमस्कार आज हम बात करेंगे रहट के कूए के बारे मे जो हमारे किसान भाई पुराने जमाने मे इस्तेमाल करते थे सिंचाई के लिए कुओं से पानी निकालने के लिए बनाए गए यंत्र विशेष को रहट, रंहट, रहटा, अरहट्ठ, चरखा, घाटीयंत्र, अरहट, अरघटक, पिरिया आदि नामों से भी जाना जाता है। वेदों में अरगराट (अरघट्ट) शब्द का प्रयोग जलयंत्र के रूप में हुआ है, जिसका अभिप्राय है कि ऐसा कुआ, जिस पर रहट से सिंचाई होती हो। दरअसल, जिस कुएं में सिंचाई के लिए रहट का प्रयोग होता है, उसी को रहटआला कुआं कहा जाता है। पक्के कुएं में ही रहट की स्थापना होती है। रहट में मूलत: तीन चक्कर होते हैं, जिन्हें घड़ी के चक्रों की भाति एक-दूसरे से व्यवस्थित करके पानी निकाला जाता है। सबसे पहले रहट की स्थापना करने के लिए कुएं के बीचों-बीच एक लकड़ी रखी जाती है, जिसे बड़सा तथा बरसा कहते हैं। कुएं के ऊपर रहने वाले एक चक्र और बाहर के यंत्रों को जोड़ने वाला लोहे का एक मोटा और लंबा डंडा होता है अधिक जानकारी के लिए विडियो देखिये

*Terms of Service – We do not have the copyright of this Content on this website. The copyright under the respective owners of the videos uploaded to Youtube. If you find any Content encroach your copyright or trademark, and want it to be removed or replaced by your original content, please contact us at [email protected]

Default image
Technical Kheti Team
Technical Kheti is about agricultures and their related services and provide valuable knowledge.

Leave a Reply